Board index JoyofSatan666 Hitler Friend of India - Hindi Sermon

Hitler Friend of India - Hindi Sermon

For those who wish to establish a relationship with Satan.

Topics of discussion include: Demons, Magick, Satanic Witchcraft and much more!

http://www.joyofsatan.org/

Post Wed Mar 04, 2015 10:24 am

Posts: 1170
Location: Republic Of India
Greetings,

Special Thanks to HPMAgeSon666 , the author of the actual sermon that appeared >>>>>
topic8102.html



This is the Hindi Translation Specially for Indian Brothers and Sisters out here.



भारत का दोस्त - अडोल्फ़ हिटलर


अडोल्फ़ हिटलर भारतीय गणराज्य की आज़ादी के पक्षधर थे

प्रिय भारतीय भाइयों और बहनो

यह बात आपको कहीं और समाचार चैनेलो और इंटरनेट पर शायद ही मिले

Image

सुभाष चन्द्र बॉस , हिटलर से एक मुलाक़ात के दौरान . दोनों का इतनी सौम्यता से हाथ मिलाना मेरे दिल को छू जाता है . यह निश्चित ही गौरवपूर्ण मुलाक़ात थी. एक महान भारतीय राष्ट्रवादी जो यह जानता था की आज़ादी की लड़ाई में , अडोल्फ़ हिटलर उनका सबसे अच्छा और विश्वसनीय मित्र है और वह था भी . हिटलर यह बात भी जानते थे की , सुभाष चन्द्र बॉस जो की एक महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे उन से इस तरह मिलना , नाज़ी जर्मनी के लिए अंतराष्ट्रीय स्तर कितना जोखिम भरा होगा. मगर अडोल्फ़ हिटलर मूल्यों के व्यक्ति थे .

हिटलर ने एक बार टिप्पणी करी - "" मै हेलेन (Hellene) हूँ ! एकबार नीत्शे (Nietzsche ) का हवाला देते हुए , अगर आप इसको एक गहरे संदर्भः में समझे या देखे तो इसके माने होंगे -- की अडोल्फ़ हिटलर ने यह स्वीकारा की वे प्राचीन भारतीय हिन्दू देवी देवताओ के अस्तित्व में पूरा विश्वास करते है और साथ ही यूरोप के प्राचीन देवी देवताओ में भी उनका पूरा विश्वास है. अडोल्फ़ हिटलर ने यह भी स्वीकारा की वह खुद ही देवयाना के मानने वाले अनुयायी हैं . जो की (vamcara/नाग शक्ति योग पर आधारित है ) और यह satan का ही है .

अडोल्फ़ हिटलर , सुभाष चन्द्र बॉस के एक सच्चे मित्र और साथी थे जो भारत को ब्रिटेन से स्वतंत्र करने के लिए प्रतिबद्ध थे . मित्रो यहूदियों ने भारत को ब्रिटेन के माध्यम से अपना गुलाम बना रखा था और यहूदियों का सरगना जिसने यह सब खेल खेला था वह था यहूदी रोथस्चाइल्ड . और मित्रो अगर जर्मनी द्वितीय विश्वयुध जीत गया होता तो भारत को तुरंत जर्मनी के द्वारा स्वतंत्रता दे दी जाती और सुभाष चन्द्र बॉस की एक नयी स्वतंत्र सरकार के अधीन एक नए स्वतंत्र भारत का उदय होता . नाज़ी जर्मनी में जो सुभाष चन्द्र बॉस के अच्छे मित्र थे और जो उनके करीबी थे वे यह अच्छी तरह से जानते थे और उन्होंने यह कहा भी की सुभाष चन्द्र बॉस एक राष्ट्रीय समाजवादी थे . सुभाष चद्र बॉस ने कई साल पहले से ही इसके तैयारी कर ली थी की राष्ट्रीय समजवाद का भारतीय संस्करण कैसा होगा .

मित्रो , जर्मनी और उसका साथी जापान दोनों ने मिलकर एक ऐसे सेना का निर्माण किया गया जिसे हम स्वतंत्र भारतीय सेना के तौर पर जानते है. इस सेना के सेनाध्यक्ष सुभासचन्द्र बॉस बने . और इस छोटी से सेना ने भारत को स्वाधीनता देने की कई कोशिशें करी . आप को शायद न पता हो मगर , नाज़ी जर्मनी में कई भारतीय एस एस (SS) रेजिमेंट्स थी जो पूर्वी मोर्चे पर यहूदियों के नियत्रण वाले सोवियत संघ जो की निश्चित ही एक क्रूर दरिंदा था उससे युद्ध कर रही थी और मानवता की रक्षा के लये अपने प्राण न्योछावर कर रही थी . इन एस एस (SS) रेजिमेंट्स में जो भारतीय थे , इनलोगों को जबरन नाज़ी जर्मनी में युद्ध के लिए नहीं फेंका गया परन्तु यह भारतीय सैनिको ने अपनी स्वैच्छा से नाज़ी जर्मनी के साथ , नाज़ी जर्मनी के ओर से युद्ध में लड़ने का फैसला किया . नाज़ी जर्मनी ने जब फ्रांस से 1941 में जंग जीती तो इन भारतीय सैनिको को ब्रिटेन के कराग्रहो , यातना शिविरों से आज़ाद कराया गया . और सुभाष चन्द्र बॉस एक भारतीय होने के नाते और एक राष्ट्रीय समाजवादी होने के नाते पूरे जोश और ईमानदारी के साथ , इन आज़ाद कराये भारतीयों से मिलने गए और उन्हें सच्चाई से वाकिफ कराया की नाज़ी जर्मनी मानवता के दुश्मन नहीं बल्कि मानवता के असली दुश्मन तो ब्रिटेन , अमेरिका और दुसरे ऐलाईड साथी हैं .

सुभाष चन्द्र बॉस ने उन भारतीयों को बताया की हिटलर उनका दुश्मन नहीं है और यह कितनी अनैतिक बात होगी की आप लोग यहूदी ब्रिटश साम्राज्य का साथ दो . आप लोग क्या इन यहूदी ब्रिटिश साम्राज्यवादी लोगो के तरफ से लड़ने और मरने की और इन दरिंदो का साथ देने की कसम खाएंगे ? नहीं ना , तो बस आईये आप हम साथ मिलके , नाज़ी जर्मनी के साथ एक मित्र के जैसे ,, भारतीय स्वतंत्रता की लड़ाई लड़े . और सारे भारतीय जिन्हे आज़ाद कराया गया था तुरंत इस प्रस्ताव पर राज़ी हो गए क्यूंकि वे एक प्रतिष्ठा के धनी व्यक्ति थे और उन्होंने तब अडोल्फ़ हिटलर का साथ देने की कसम खायी ताकि वे भारत को स्वतंत्र करा सके . ये भारतीय जिन्हे अडोल्फ़ हिटलर और नाज़ी सेना ने आज़ाद किया था , वे समझ गए थे की हमारा असली दुश्मन तो ये यहूदी है जिसने अभी तक उन्हें झूठ, धोखे और मक्कारी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था.

लेकिन यह बात हमारे लिए दुःख और गौरव दोनों की है की यह भारतीय सैनिक नाज़ी जर्मनी के साथ और यहूदियों के खिलाफ मानवता की लड़ाई लड़ते हुए शहीद हो गए . आप शायद न जानते हों , जर्मनी के साथ सिर्फ जर्मन सैनिक ही नहीं बल्कि , यहूदियों और उनके गुलाम समर्थकों को छोड़ कर हर राष्ट्र और हर नस्ल के लोग लड़े और शहीद हो गए .

मित्रो यह हरामज़ादे यहूदी ही साड़ी मानवता के शत्रु हैं , इसके चेतावनी हमें रोमन शासको ने पहले ही दे दी थी .

Image
बहादुर भारतीय सैनिक जो स्वैछा से हिटलर के साथ युद्ध में सहभागी बने .

हालांकि मित्रो यह बात भी सच है की भारत को ब्रिटेन ने स्वतंत्रता बाद में , युद्ध जीतने के बाद अवश्य दे दी मगर , ब्रिटेन ने ऐसा एक सुनियोजित योजना के तहत , स्वतंत्रता देने से पहले भारत को इतना नुक्सान पहुँचाया की भारत आज़ाद होने के बाद महाशक्ति कभी न बन पाये . इन पाखंडियों ने जान बूझ कर टू नेशन थ्योरी का साथ दिया और पाकिस्तान को बनाते हुए , भारत को दो हिस्सों में बाँट दिया . मित्रो यहूदी नियंत्रण वाले ब्रिटिश जानते थे की इस विभाजन के कारन कितने निर्दोष लोग मारे जायेंगे . और हमने देखा की हुआ भी यही , विभाजन के दौरान बीस लाख से अधिक औरते , बच्चे बूढ़े सब को मुस्लिमो ने जातीय सफाई के नाम पर कतल कर दिया . और कई हज़ारों , लाखों को अपने घर से बेघर होना पड़ा ..

इसके साथ भारत को , ब्रिटेन ने जान बूझ कर एक मार्क्सवादी सरकार के अंदर झौंक दिया जिसका मार्क्सवादी प्रधानमंत्री बना नेहरू . मित्रों इन मार्क्सवादी नीतियों के कारण ही भारत में आज भी इतनी गरीबी , भ्रष्टाचार , बुखमरी है .

इतना ही नहीं मित्रों , इन मार्क्सवादी नीतियों के कारण ही हमारा भारतीय संस्कृति आज नष्ट होने की कगार पर कड़ी है . आप को पता है ? नेहरू के पहले भारत में 600 से अधिक संस्कृत विद्यालय थे और नेहरू सरकार के आते ही ये बंद होना शुरू हो गए और सिर्फ 6 बचे .

हालांकि यह भी सत्य है की कई दशको के बाद आज हमारा देश तरक्की कर रहा है , देश की संपत्ति बढ़ रही है और हमारा मध्यम वर्ग आज सबसे तेज़ी से बढ़ रहा , कोई 400 ,000 ,000 आज गरीबी रेखा छोड़ ऊपर उठे है .वह भी इसिलए क्यूंकि आज हमने अपने आर्थिक मॉडल में कई सुधार करे . लेकिन मित्रो यह तो सिर्फ एक पहलु है , आज भी हमें बहुत कुछ करना बाकी है .

मित्रो इंग्लैंड को नियंत्रित करने वाले यहूदियों का भारत के लिए एक दीर्घकालिक योजना यह थी की , पहले तो भारत पर राज करके उसका शोषण करो , जब वो खूब कमजोर हो जाये फिर उसे आज़ादी दे दो ,,, और आज़ादी के बाद भारत को उनके (यहूदियों) द्वारा तैयार की हुई एक निकम्मी मार्क्सवादी सरकार के हवाले कर दो . और हुआ भी यही. इस तरह से पूरे भारत को एक साम्यवादी (कम्युनिस्ट ) देश बना दो. मित्रों , नेहरू जो था वो यहूदी स्टालिन का करीबी था . वह भारत को स्तालिनिस्ट (Stalinist) यू एस एस आर के जैसा देश बनाना चाहता था .यहूदियों ने यू एस एस आर से यहूदी सर्थित प्रतिनिधियो को संपूर्ण भारत में काम पर लगा रखा था ताकि भारत को यहूदी साम्यवादी (ज्यूइश कम्युनिस्ट ) देश बनाया जा सके जिसका पूरा नियंत्रण परदे के पीछे से यहूदी करे.

मित्रो आज भी हम देखते है की कई सारे नक्सली समस्याओं से हमारा भारत घिरा हुआ है . यह कौन लोग हैं ? यह सब यहूदियों का किया धरा है . इस कुकर्म के बीज भारत के बनने के बहुत पहले से ही बोये जा रहे थे . ये नक्सल वादी आज भारत को एक साम्यवादी देश बनाने में जुटे हुए है. आज हमारी भारतीय सेना ने भी इस बात को स्वीकारा है की इन नक्सलियों को चीन मदद
देता है .

लेकिन शुक्र है भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन का जो इस चीज़ का प्रतिरोध करता आया है. मित्रों यहूदियों ने भारत को यहूदी क्रिश्चियनिटी (ईसाई) में धकेलने की कोशिश भी की थी , जब हम यहूदी ब्रिटेन के गुलाम थे. और यह बात भी किसी से छुपी नहीं है की क्रिस्चियन कैथोलिक चर्च ने ना जाने कितने लाखों निर्दोषों बच्चे औरतें बूढ़े पुरुष आदि का कतल किया सिर्फ इसीलिए क्यूंकि वे ईसाई नहीं थे . उन पर जादू टोनो का आरोप लगा लगा के उन्हें यातनाये दे दे के मारा गया. यह बात आज किसी से छुपी नहीं है.

एक तटीय शहर में , कैथोलिक हरामियों ने पुर्तगालियों के सहायता से कई सो लोगो को एक कतार में खड़ा किया और एक भारतीय परिवार के मासूम बच्चे को चक्की पत्थर के बीच रख के पीस दिया गया और यह सब उन बेरहमो ने उस बच्चे के माता पिता और परिवार के सामने किया. उसके बाद उन लोगों ने उस बच्चे के परिवार और भाई बहनो का गला उन एक सो लोगों के सामने काट दिया साथ ही ये कहा की अगर वे ईसाई नहीं बनेगे तो उनके साथ भी ऐसा ही किया जायेगा.

और इसके साथ साथ हम इस्लाम के बारे में भी जानते हैं . इस्लाम भी एक यहूदी कार्यक्रम है . इस्लाम के नाम पर ही भारत में कई सौ सालो तक समस्त इतिहास में तकरीबन 70,000,000 लोग कतल कर दिए गए.

मित्रो ये वही ब्रिटेन का प्रधानमंत्री यहूदी चर्चिल था जिसने भारत में अकाल पड़वा कर कितने लाखों लोगों का कतल किया था. और यहूदी चर्चिल को जब उसके और उसके यहूदी साथियों द्वारा रचे गए इस अमानवीय काण्ड का विवरण प्राप्त हुआ की कितने लोग मरे गए हैं , इसे पढ़कर वो बहुत खुश हुआ और फूला न समाया . उसकी इस क्रूरता से यहाँ तक की उसके करीबी भी उससे नफरत और घृणा करने लगे. इतना ही नहीं मित्रों ब्रिटिश राज में भारत के हज़ारो गाँव , कसबे सब को जला कर राख कर दिया गया और वहां के लोगों और निवासियों को मारा गया , उनको कतल किया गया , यातनाए दी गयी क्यूंकि वे यहूदी रोथ्सचाइल्ड की लूटने वाली कर नीतियों को नहीं मानते थे . यह सब इसीलिए किया गया ताकि भारत की साड़ी पूँजी , संपत्ति , पैसा सब लूट लिया जाये और भारत को कई सौ सालो तक गुलाम रखा जाये . यहूदी रोथ्सचाइल्ड की कर नीति का यही उद्देश्य था .

और आज यहूदी साम्यवाद का उद्देश्य भी यही है. आज भी मित्रों , हमारे कई भारतीय भाई - बहिन न जाने कितनी ही यहूदी कम्पनिओं और अंतराष्ट्रीय यहूदी निगमों और कारखानो में कमर तोड़ मेहनत करने को मजबूर हैं और वहां उनका हर प्रकार से शोषण किया जाता है. आज आपने कई बार शायद अख़बारों में पढ़ा होगा की , यह मज़दूर बिचारे ऐसे की कारखानो में जल कर मर जाते हैं और यह पाया जाता है की आग लगने के दौरान दरवाज़े बहार से बंद थे और उनमे ताला लगा मिलता है . सिर्फ भारतीय ही नहीं हर दुसरे देशो के लोग यहूदी कारखानो में शोषित हो रहे है .

Image
हिमलर , सुभाष चन्द्र बॉस के साथ एक बैठक के दौरान ज़रूरी एवं महत्वपूर्ण बातों पर विचार विमर्श करते हुए.

एक बार तो हिमलर और बॉस ने पूरा दिन आध्यात्मिक वैदिक दर्शनशास्त्र के बारे में चर्चा करते हुए बिताया . हिमलर को अध्यात्म विषय में अत्यधिक रूचि थी . उन्हें (हिमलर को )बॉस और हिटलर दोनों पसंद थे. हिम्म्लर एक आध्यात्मिक प्रवृर्ति के व्यक्ति थे जो (vamcara / नाग शक्ति योग का अनुसरण करते थे. एस एस (SS) कार्यालय का यह निश्चित नियम था की सभी एस एस अफसरों को रोज़ प्रतिदिन यह योगा करना है.

मित्रो अगर हम ध्यान से गौर करे तो पाएंगे की जो एस एस (SS) की टोपी का जो खाका है वह नुकीला है जो की गुप्त छुपे हुए नाग (सरपेंट ) को लिया हुआ है और उसका कनटोप खुला हुआ है और इसके साथ ही एक सिर और दो क्रॉस हड्डी (टमप्लर डेथ head)की एक तस्वीर है जो इस नाग (सर्पेंट ) के उत्थान के द्वारा आत्मा के पुनर्जन्म को दर्शाती है. और इस चिन्ह को ठीक माथे के तृतीय चक्षु (आँख ) वाले भाग के ऊपर रखा गया है.

ये प्राचीन मिस्र के फैरोह द्वारा सिर पर धारण किये जाने वाले पोषक / टोपे से मिलता जुलता है . इसे uraeus ताज (uraeus crown ) कहते है. और यह चिन्ह है , SATAN के उठे हुए नाग (सर्पेंट )का और आध्यात्मिक शिक्षा और स्वतंत्रता का .


मित्रों अडोल्फ़ हिटलर एक युद्ध लड़ रहे थे यहूदी दुनिया व्यवस्था के खिलाफ . वे युद्ध लड़ रहे थे सारे लोगों और मानवता की स्वतंत्रता के लिए. हमारी भारतीय लड़ाई स्वतंत्रता के लिए केवल हमारी लड़ाई ही नहीं थी परन्तु यह लड़ाई सारे विश्व की लड़ाई थी यहूदी जगत व्यवस्था के खिलाफ. और अगर अडोल्फ़ हिटलर युद्ध जीत गए होते तो भारत को हमारे एक महान नायक सुभाष चन्द्र बॉस के अधीन तुरंत एक सच्ची स्वतंत्रता दे दी जाती . और हमारा देश आध्यात्मिक , भौतिक और सामाजिक तरक्की के एक नए सुनहरे युग में प्रवेश कर जाता. आज भी भाइयों और बहनो, कई भारतीय गुरु जो पश्चिम देशो का रुख करते है , उनपर हमले किये जाते हैं , नस्लीय टिप्पणियाँ की जाती है . और ये सब यहूदी ही करते हैं . इन्हे आध्यात्मिक और सामाजिक हमलो दोनों का ही सामना करना पड़ता है. बस अंतर यह रहता है की ये हमले यहूदी सीधे नहीं बल्कि अपने एजेंटो / प्रतिनिधि / जासूस के द्वारा करवाते हैं .

ये गुरु जानते है की सच क्या है , ऐसे ही एक गुरु महर्षि महेश योगी जो की बीटल्स (beatles) के गुरु थे, उन्होंने हिटलर के बारे में कई सत्य एवं सकारात्मक बाते बताई हैं . महर्षि महेश योगी निश्चित ही यहूदिओं की असलियत जानते थे और हिटलर के बारे में सत्य जानते. थे . वे जानते थे की हिटलर के बारे में यहूदियों ने कितना दुष्प्रचार किया है . मित्रो आज भी कई पूर्व देशो (east nations) के आध्यात्मिक गुरु हैं जो हिटलर के बारे में सच जानते हैं और उनसे अत्यधिक प्रेम करते हैं और हिटलर को एक महान आधयात्मिक शिक्षक के तौर पर देखते हैं और मानवता का सच्चा नायक और नेता मानते हैं .

Image
महर्षि महेश योगी

मित्रो , पूर्वी देशों हिटलर ने कई खूब अचछे एवं घनिष्ट मित्र बनाये थे में और पूर्वी नस्लों के कई लोग हिटलर के काफी अच्छे मित्र थे. हिटलर में किसी भी प्रकार की नस्लीय हिंसा की प्रवृत्ति बिलकुल भी नहीं थी. यह तो यहूदियों द्वारा फैलाया हुआ एक झूठ है. पूर्व के देशो के (eastern nations) कई सच्चे आध्यात्मिक संतो ने और नेताओ ने इस बात को स्वीकारा है की हिटलर की राष्ट्रीय समाजवादी जर्मनी की व्यवस्था ही एक सच्ची आध्यात्मिक व्यवस्था और जीवन जीने का सबसे बेहतरीन तरीका है. और वे आज भी स्वीकारते हैं के हिटलर इस संसार के समस्त मानवता का रक्षक है जिसने यहूदियों की बुरियों के खिलाफ आवाज़ उठाई और लड़ा.


अंत में मई सिर्फ एक चीज़ और जोड़ना चाहूंगा की , इस लेख में बताई कई बातें पहले ही josministries.prophpbb.com पर एवं http://hailtosatansvictory666.angelfire.com/ पर उपलब्ध दुसरे लेखों में विस्तार से बता दी गयी हैं . पाठक इस लेख को पढ़ने के साथ josministries.prophpbb.com and joyofsatan.com पर दिए अन्य लेखो का भी अच्छे से अध्यन करे ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की कोई शंका न रह जाये.

आप इस फोरम (josministries.prophpbb.com )पर आमंत्रित है हम आपकी शंकाओं का समाधान करने के लिए सदा उपस्थित हैं.
धन्यवाद

-------------------------------------
SATAN अफोल्फ़ हिटलर, हिमलर , रुडोल्फ हेस्स, गोएब्बेल्स और सारे जेंटाइल लोगों को आशीष दे

SATAN की जय और HELL के सभी देवी देवताओं की जय !!!!!!!!!!

Image

Hail Satan Hail Peacock Lord Hail Shiva Hail Kartikey HAIL all demon friends

“It is necessary that I should die for my people; but my spirit shall rise from the grave, and the world will know that I was right.” -Adolf Hitler.
Heil mein Führer I know you were right -roadtorevolution
Contact ME - proudpaganproudpast@gmail.com
______________________________

HEY HAVE
Image Poo people...

Post Wed Mar 04, 2015 12:20 pm
HP Mageson666 Site Admin

Posts: 5087
Good work!


Road, mien bro. If you don't have a website up in Hindi yet for Spiritual Satanism you should put one up. As well as have an English one as English is the most spoken language on earth across all groups its just easier to reach people with it more as well. But I would like for there to be one for people who are Hindi speakers. Its nice to read the truth in your own language there is something pleasant about it. And for those who can't read English its important.

After all.....

Image

Post Wed Mar 04, 2015 12:58 pm

Posts: 1170
Location: Republic Of India
HP Mageson666 wrote:
Good work!


Road, mien bro. If you don't have a website up in Hindi yet for Spiritual Satanism you should put one up. As well as have an English one as English is the most spoken language on earth across all groups its just easier to reach people with it more as well. But I would like for there to be one for people who are Hindi speakers. Its nice to read the truth in your own language there is something pleasant about it. And for those who can't read English its important.

After all.....

Image


I will set up joyofsatan.com in hindi . Yes its terrific to read truth in our own tongue. I will soon start to translate each of sermons in hindi. And I guess thats probably you sitting on the top of the horizon :mrgreen: ;p As a side note I saw that somewhere in this very forum, ya I guess it was hungaryan ?


Hail Satan and all Gods of Hell !!!!!

Image

Hail Satan Hail Peacock Lord Hail Shiva Hail Kartikey HAIL all demon friends

“It is necessary that I should die for my people; but my spirit shall rise from the grave, and the world will know that I was right.” -Adolf Hitler.
Heil mein Führer I know you were right -roadtorevolution
Contact ME - proudpaganproudpast@gmail.com
______________________________

HEY HAVE
Image Poo people...

HP Mageson666 Site Admin

Posts: 5087
This is excellent.


Posts: 1241
Location: Pandemonium

Brother roadtorevolution , this is really nice. Thank you for doing this .
You don't stop when you are tired
You stop when you are done!

AVE SATAN SIEMPRE!
Hail Satan e tutti gli Dei di Duat.


http://www.alegriadeenki.com

Post Thu Mar 05, 2015 10:25 am

Posts: 19
Location: भारत
Thanks brother.
Reading this sermon in my mothertongue makes me happy.
Keep up the good work मित्र :D

Post Thu Mar 05, 2015 12:06 pm

Posts: 1170
Location: Republic Of India
fightfortruth wrote:
Thanks brother.
Reading this sermon in my mothertongue makes me happy.
Keep up the good work मित्र :D


मै इस फोरम में और अधिक से अधिक आर्यों को देख के खुश और उत्साहित हूँ. धन्यवाद भाई :D

Image

Hail Satan Hail Peacock Lord Hail Shiva Hail Kartikey HAIL all demon friends

“It is necessary that I should die for my people; but my spirit shall rise from the grave, and the world will know that I was right.” -Adolf Hitler.
Heil mein Führer I know you were right -roadtorevolution
Contact ME - proudpaganproudpast@gmail.com
______________________________

HEY HAVE
Image Poo people...

Post Thu Mar 05, 2015 11:31 pm

Posts: 1170
Location: Republic Of India
High Priestess Myla Limlal666 wrote:
Brother roadtorevolution , this is really nice. Thank you for doing this .


welcome , anytime ....:D

Image

Hail Satan Hail Peacock Lord Hail Shiva Hail Kartikey HAIL all demon friends

“It is necessary that I should die for my people; but my spirit shall rise from the grave, and the world will know that I was right.” -Adolf Hitler.
Heil mein Führer I know you were right -roadtorevolution
Contact ME - proudpaganproudpast@gmail.com
______________________________

HEY HAVE
Image Poo people...


Posts: 293
Location: Maharashtra, India
Wow you have written it in pure Hindi. Good. You're definitely not as dumb as I am when it comes to language. Good work.
Hail Satan!!!!
Hail Astaroth!!!!
Hail Azazel!!!!
Hail Belzebub!!!!
666/88


Return to JoyofSatan666

cron